कॉलापिट ऑसिलेटर और क्लैप ऑसिलेटर किसे कहते है

      Comments Off on कॉलापिट ऑसिलेटर और क्लैप ऑसिलेटर किसे कहते है
कॉलापिट ऑसिलेटर सर्किट

कॉलापिट ऑसिलेटर :- कॉलापिट नामक वैज्ञानिक द्वारा डिजाइन किये गये ऑसिलेटर सर्किट में इन्डक्टिव फीडबैक के स्थान पर कैपेसिटिव फीडबैक प्रयोग किया  जाता है | इसका लाभ यह है की फीडबैक वोल्टेज ठीक 180 फेज अन्तर पर होता है | इस ऑसिलेटर में पैदा होने वाले ऑसिलेशन्स, शुद्ध साइन वेव ऑसिलेशन्स होते है |

कॉलापिट ऑसिलेटर (Colpitts Oscillator)

कॉलापिट ऑसिलेटर

कॉलापिट ऑसिलेटर सर्किट

जरूर पढ़े।

 

चित्र में NPN ट्रांजिस्टर युक्त सर्किट दर्शाया गया है जब कैपेसिटर C1 की उपरी प्लेट पॉजिटिव होती है तो कैपेसिटर C2  की निचली प्लेट नेगेटिव होती है | इस प्रकार ट्रांजिस्टर के बेस को ठीक 180 फेज अन्तर का फीडबैक प्राप्त हो जाता है सर्किट में C3 ब्लाकिंग कैपेसिटर है यह कलैक्टर करंट के D०C० अंश को बेस पर जाने से रोकता है | कैपेसिटर C4 बेस कपलिंग कैपेसिटर है RFC कलैक्टर करंट के A०C० अंश को बैट्री पर जाने से रोकती है

इस सर्किट की फ्रीक्वेंसी निम्न सूत्र से ज्ञात की जाती है

कॉलापिट ऑसिलेटर

कॉलापिट ऑसिलेटर फ्रीक्वेंसी

क्लैप ऑसिलेटर (Clapp Oscillator)

यह ऑसिलेटर परिपथ कॉलापिट ऑसिलेटर परिपथ का परिवर्द्धित रूप है | इसमे टैंक परिपथ की क्वायल L के श्रेणी क्रम में एक अत्यन्त अल्प मान का कैपेसिटर C3 संयोजित किया जाता है

कॉलापिट ऑसिलेटर

क्लैप ऑसिलेटर सर्किट

इस परिपथ की ऑसिलेटरी फ्रीक्वेंसी की गणना निम्न सूत्र द्वारा की जाती है |

कॉलापिट ऑसिलेटर

क्लैप ऑसिलेटरी फ्रीक्वेंसी

वास्तव में CT का मान लगभग C3 के मान के बराबर होता है |

इस प्रकार यह परिपथ लगभग स्थिर मान की फ्रीक्वेंसी पैदा करता है इसके अतिरिक्त इस परिपथ द्वारा पैदा की गयी फ्रीक्वेंसी पर ट्रांजिस्टर के स्ट्रे कैपेसिटेन्सेस (stray-Capacitances) का प्रभाव कैपेसिटर C3 के द्वारा निराक्र्त (Neutralise) हो जाता है |

 

दोस्तों अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी और उपयोगी लगी है तो आपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। और पोस्ट को Like और Share जरूर करे । और इलेक्ट्रॉनिक्स की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग www.electronicgyan.com को फॉलो करे.