हार्टले ऑसिलेटर किसे कहते है

Advertisements
हार्टले सिरीज फैड ऑसिलेटर सर्किट

सर्वाधिक प्रचलित प्रकार का ऑसिलेटर परिपथ प्रसिद वैज्ञानिक हार्टले द्वारा तैयार किया गया था ये परिपथ निम्न प्रकार के होते है |

Advertisements
  • हार्टले सिरीज फैड ऑसिलेटर
  • हार्टले पैरलल फैड ऑसिलेटर

दोनों ही प्रकार के परिपथ रेडियो रिसीवर्स में लोकल ऑसिलेटर के रूप में आमतोर पर प्रयोग किये जाते है |

 

  • हार्टले सिरीज फैड ऑसिलेटर (Series Fed Circuit) :- इस परिपथ में क्वायल के LC खण्ड में से प्रवाहित होने वाली विधुत धारा उसके LB खण्ड में धनात्मक फीडबैक वोल्टेज प्रेरित करती है | यह फीडबैक वोल्टेज कैपेसिटर C1 के द्वारा ट्रांजिस्टर के बेस को प्रदान कर दिया जाता है | कलैक्टर परिपथ में संयोजित कैपेसिटर C3 के द्वारा आउटपुट प्राप्त किया जाता है |

 

हार्टले ऑसिलेटर (Hartley Oscillator)

हार्टले ऑसिलेटर किसे कहते है
हार्टले सिरीज फैड ऑसिलेटर सर्किट

जरूर पढ़े।

  1. ऑसिलेटर की मौलिक आवश्यकताए ||टैंक सर्किट की कार्यप्रणाली
  2. विभिन्न प्रकार के ऑसिलेटर्स|| ट्यून्ड कलैक्टर ऑसिलेटर सर्किट
  3. मानक लॉजिक गेट्स
Advertisements

 

  • हार्टले पैरलल फैड ऑसिलेटर (Parallel Fed Circuit) :- इस परिपथ में कलैक्टर करंट का A०C० अंश क्वायल के LC खण्ड में से प्रवाहित होता है और उसके LB खण्ड में धनात्मक फीडबैक वोल्टेज प्रेरित करता है | यह फीडबैक वोल्टेज कैपेसिटर C1 के द्वारा ट्रांजिस्टर के बेस को प्रदान कर दिया जाता है | कलैक्टर परिपथ में संयोजित कैपेसिटर C3 से आउटपुट प्राप्त किया जाता है |  सिरीज फैड परिपथ की अपेक्षा पैरलल फैड परिपथ का कार्य अधिक संतोषजनक होता है |
हार्टले ऑसिलेटर किसे कहते है
हार्टले पैरलल फैड ऑसिलेटर

इसमे कलैक्टर करंट का D०C० अंश फीडबैक क्वायल में से प्रवाहित नही होता है अतः इसकी बेस बायस स्थिर रहती है फलतः सर्किट द्वारा पैदा की जाने वाली फ्रीक्वेंसी का मान भी स्थिर रहता है |

दोनों प्रकार के परिपथो की ऑसिलेटरी फ्रीक्वेंसी की गणना निम्न सूत्र द्वारा की जाती है –

 

दोस्तों अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी और उपयोगी लगी है तो आपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। और पोस्ट को Like और Share जरूर करे । और इलेक्ट्रॉनिक्स की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग www.electronicgyan.com को फॉलो करे.