विधुत चुम्बक कैसे बनाते है?

      Comments Off on विधुत चुम्बक कैसे बनाते है?
परिचय –किसी क्वायल या सोलेनोयड में करंट प्रवाहित करके नर्म लोहे की छड को चुम्बक बनाया जा सकता है जबकि नर्म लोहे की छड क्वायल के बीच रखी गई हो और प्रवाहित होने वाली करंट डी० सी० हो | इस प्रकार बनाया गया चुम्बक विधुत चुम्बक कहलाता है |

विधुत चुम्बक (Electromagnet)

विधुत चुम्बक

Electromagnet

विशेषताएँ

2.
० इसकी चुम्बकीय शक्ति करंट मान को घटा बढ़ाकर क्रमश: घटाई बढाई जा सकती है |
० इसकी धुर्वता परिवर्तित की जा सकती है (करंट प्रवाह को दिशा परिवर्तित करके ) |
० इसकी चुम्बकीय शक्ति स्थाई चुम्बको की अपेक्षा हजारो गुना अधिक हो सकती है |
० अनेक प्रकार के यन्त्रों एव उपकरणों में केवल विधुत चुम्बक ही प्रयोग किये जा सकते है जैसे चुम्बकीय लिफ्ट या क्रेन आंख में पड़े लोहे के कण को निकलने वाला डाक्टरी यन्त्र आदि |
3. उपयोग – विधुत घन्टी, रिले, मोटर, जैनेरेटर, वैधुतिक मापक यन्त्र आदि में इसका उपयोग किया जाता है 

जब किसी लोहे की छड के पास किसी चुम्बक को लाते है या चुम्बक के पास लोहे की छड को लाते है तो उस छड में भी चुम्बकत्व पैदा हो जाता है | यह क्रिया चुम्बकीय प्रेरण (Induction) कहलाती है |वास्तव में प्रत्येक चुम्बक लोहे की छड या वस्तु में पहले विपरीत धुर्वता या चुम्बकीय धुर्व पैदा करता है |और तब विपरीत धुर्वो में आकर्षण के फलस्वरूप चुम्बक छड को आकर्षित कर लेता है | इस क्रिया के लिए चुम्बक और छड का सम्पर्क आवश्यक नही है |अनेक वैधुतिक मापक यन्त्रों में छड चुम्बक को एच्छिक आकर प्रदान करने के लिए चुम्बकत्व के साथ नर्म लोहे के धुर्व खण्ड (Pole Plece) प्रयोग किये जाते है जो चुम्बकीय प्रेरण सिध्दान्त पर कार्य करते है |
धारण शक्ति (Retentivity)

किसी चुम्बकीय पदार्थ को चुम्बक बनाने वाला चुम्बकन बल (Magnetising Force) हटा देने पर भी उस पदार्थ में कुछ न कुछ चुम्बकत्व शेष रह जाता है | जो अवशिष्ट चुम्बकत्व ( Residual Magnetism) कहलाता है | पदार्थ का वह गुण जिसके कारण वह अवशिष्ट चुम्बकत्व को धारण करता है धारण शीलता या धारणा शक्ति (Retentiivity) कहलाता है | चुम्बक बनाने के लिए धारणा शक्ति के आधार पर ही पदार्थो का चयन किया जाता है | नर्म लोहे की अपेक्षा फोलाद की धारणा शक्ति अधिक होती है |

दोस्तों अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी और उपयोगी लगी है तो आपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। और पोस्ट को Like और Share जरूर करे । और इलेक्ट्रॉनिक्स की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग www.electronicgyan.com को फॉलो करे.