इंसुलेशन टैस्टिंग मीटर (मैगर ) का प्रयोग करते हुये इंसुलेशन टैस्ट करना

      Comments Off on इंसुलेशन टैस्टिंग मीटर (मैगर ) का प्रयोग करते हुये इंसुलेशन टैस्ट करना
इंसुलेशन टैस्टिंग मीटर (मैगर ) का प्रयोग करते हुये इंसुलेशन टैस्ट करना

नमस्कार _/ \_आज की पोस्ट में हम आपको बता रहे है की इंसुलेशन टैस्टिंग मीटर (मैगर ) का प्रयोग कैसे करते है ये पोस्ट उन पाठको के लिए बहुत ही उपयोगी है जो कम्पनियो में Maintenance के क्षेत्र में काम  करते है इस पोस्ट को पढ़कर आसानी से कम्पनी की अर्थिग चैक कर सकते है |

 

प्रायोगिक विधि (Experimental Method)  – मैगर एक प्रकार का हाई रेजिस्टेंस (High Resistance) मापने का यन्त्र है| इसका प्रयोग प्राय: 1 Mega Ω से अधिक रेजिस्टेंस ज्ञात करने के लिए किया जाता है| इसके द्वारा किसी यन्त्र में लीकेज करेंट चैक करने इंसुलेशन टैस्ट करने तथा विधुत वायरिंग आदि में फेज तथा न्यूटल के बीच में अर्थ टैस्ट भी किया जाता है | इसमे एक हाथ से चलाने वाला डी० सी० जेनेरेटर होता है | जेनेरेटर से पैदा उर्जा को एक स्थिर प्रतिरोध से द्वारा क्वायल A में दी जाती है|

उपकरण तथा सामग्री (Equipment and Raw Materials)
  • मैगर
  • इन्सुलेटिड मैटीरियल

 

इंसुलेशन टैस्टिंग मीटर (मैगर ) का प्रयोग करते हुये इंसुलेशन टैस्ट करना |

इंसुलेशन टैस्टिंग मीटर (मैगर ) का प्रयोग करते हुये इंसुलेशन टैस्ट करना

Megger Meter

 

इस क्वाइल A को प्रेशर क्वाइल कहतें है |एक दूसरी क्वाइल B जोकि प्रेशर क्वाइल के समकोण पर एक एक ही चुम्बकीय क्षेत्र में व्यवस्थित होती है जिसे करेंट क्वाइल कहते है|जब हम किसी पदार्थ का इंसुलेशन टैस्ट करते है तो उसे टर्मिनल X तथा Y के बीच में कनैक्ट करते है |यदि पदार्थ का इंसुलेशन अच्छा है तो मैगर का संकेतक अनन्त रीडिंग दिखायेगा | यदि इंसुलेशन पदार्थ का प्रतिरोध कम है तो संकेतक उसका मान प्रदर्शित करने लगेगा |
यदि X तथा Y सिरों पर कोई प्रतिरोध लगा दिया जाये तो प्रेशर क्वाइल से करेंट क्वाइल में से धारा प्रवाहित होने लगती है | जिससे मैगर का संकेतक डिफ्लेक्शन देने लगता है|और उस प्रतिरोध का मान बताता है |इसी प्रकार जब विधुत वायरिंग के फेज औरअर्थ वायर के बीच किसी प्रकार की लीकेज वोल्टेज चैक करनी हो तो मैगर के दोनों सिरों पर फेज तथा अर्थ वायर को कनैक्ट करके मैगर के जेनेरेटर को हाथ से घुमाते है| जेनेरेटर को घुमाने से विधुत धारा प्रवाहित होती है|जो प्रेशर क्वाइल में बहने लगती है यदि फेज तथा अर्थ वायर के बीच कोई शोर्टिंग हो रही है तो मैगर के करेंट क्वाइल में भी धारा प्रवाहित होने लगेगी और मैगर का संकेतक डिफ्लैक्ट होकर प्रतिरोध प्रदर्शित करेगा | इस प्रकार इंसुलेशन टैस्टिंग मीटर (मैगर ) का प्रयोग उच्च प्रतिरोध मान इंसुलेशन टैस्ट तथा अर्थिंग टैस्ट आदि के लिए किया जाता है|





इन्हे भी देखे  🙄 

  1. मल्टीमीटर से ट्रांसिस्टर की टैस्टिंग करना
  2. कैपेसिटर की टैस्टिंग
  3. रेसिस्टेन्स की टेस्टिंग
  4. अर्द्ध-चालक जर्मेनियम तथा सिलिकॉन
 
सावधानिया (Precautions)
 
  1.      मैगर को प्रयोग करते समय उसके D. C. जेनेरेटर को कम से कम 150 चक्कर/मिनट की स्पीड से घुमाना चाहिये जिससे आवश्यक करेंट बन सके |
  2.      जिस पदार्थ का इंसुलेशन टैस्ट  करना है उसे टर्मिनल के बीच कसकर लगाना चाहिये |

दोस्तों अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी और उपयोगी लगी है तो आपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। और पोस्ट को Like और Share जरूर करे । और इलेक्ट्रॉनिक्स की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग www.electronicgyan.com को फॉलो करे.