विधुत वाहक बल

Advertisements

विधुत वाहक बल (Electromotive Force, EMF)

 

Advertisements

 

1-विधुत वाहक बल

    -किसी विधुत ऊर्जा उत्पादक उपकरण द्वारा पैदा किया गया वह बल जिसके कारण किसी चालक अथवा सर्किट में इलैक्ट्रोन्स का प्रवाह स्थापित किया जाता है विधुत वाहक बल कहलाता है।इसका संकेत E तथा मात्रक वोल्ट है।

    2-पोटेन्शियल

    –किसी वस्तु का वैधुतिक स्तर जिससे यह ज्ञात होता है कि करंट का प्रवाह किस ओर होगा पोटेन्शियल कहलाता है । वस्तु पर पॉजिटिव पोटेन्शियल होने पर करंट का प्रवाह वस्तु से पृथ्वी की ओर होगा ओर नेगेटिव पोटेन्शियल होने पर करंट का प्रवाह पृथ्वी से वस्तु की ओर होता है।

    3-पोटेन्शियलडिफ़रेंस

    –किसी रेसिस्टेन्स या लोड में से करंट का प्रवाह होने पर उसके सिरे के पोटेन्शियल में अन्तर पैदा हो जाता है जो पोटेन्शियल डिफ़रेंस कहलाता है ।इसका प्रतीक V तथा मात्रक वोल्ट है।

    4-P.D तथा E.M.F. में अन्तर 

     -यदि किसी सर्किट में करंट का प्रवाह शून्य हो तो p.d का मान भी शून्य होगा जबकि E.M.F. का मान शून्य नही होगा ।
दोस्तों अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी और उपयोगी लगी है तो आपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। और पोस्ट को Like और Share जरूर करे । और इलेक्ट्रॉनिक्स की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग electronicgyan को फॉलो करे.