हाफ-वेव रेक्टिफायर

Advertisements
हेल्लो दोस्तों 
दोस्तों आज हम आपको बता रहे है रेक्टिफायर के बारे में जो मेरे दोस्त इलैक्ट्रोनिक्स सीख रहे है उनको रेक्टिफायर्स का पता होना बहुत जरुरी है क्योंकि इलैक्ट्रोनिक्स के सभी कॉम्पोनेन्ट या डिवाइस डी.सी. सप्लाई पर कार्य करते है और ए.सी. को  डी.सी. में बदलने के लिए हमें रेक्टिफायर्स की आवश्कता होती है  रेक्टिफायर मुख्यतः तीन प्रकार के होते है।आज हम आपको बता रहे है हाफ वेव रेक्टिफायर के बारे में की हाफ वेव रेक्टिफायर कैसे कार्य करता है। 

हाफ-वेव रेक्टिफायर किसे कहते है

 

Advertisements

 

हाफवेव रेक्टिफायर  (Half-wave Rectifier)
केवल एक डायोड का रेक्टिफायर सर्किट, हाफ वेव रेक्टिफायर कहलाता है क्योंकि यह सर्किट ए०सी० की केवल आधी तरंग के लिए (पॉजिटिव हाफ साईकिल) ही आउटपुट देता है।

डायोड को ए०सी० वोल्टेज ट्रांसफार्मर या मेन रेसिस्टर तथा लोड रेसिस्टर के द्धारा दी जाती है।एनोड सर्किट में करंट प्रवाह प्रत्येक इनपुट साईकिल के केवल आधे समय के लिए होता है क्योंकि एनोड करंट तभी बहेगी जबकि एनोड कैथोड की अपेक्षा पॉजिटिव विभव पर होगा । जब एनोड कैथोड की अपेक्षा नेगेटिव विभव पर होगा तब एनोड करंट का मान शून्य होगा, क्योकि नेगेटिव एनोड और नेगेटिव इलैक्ट्रॉन्स के बीच आकर्षण नही होता।इस प्रकार आल्टरनेटिंग करंट एक दिशा में बहने वाली करंट (डी०सी०) में परिवर्तित हो जाती है। बहुत से इलैक्टोन्स छोड़ देने के कारण कैथोड पॉजिटिव आवेश पर आ जाता है इसीलिए आउटपुट डी०सी० के लिए कैथोड पॉजिटिव टर्मिनल का कार्य करता है। इलैक्ट्रॉन्स प्रवाह एनोड से ट्रांसफार्मर लोड रेसिस्टर तथा डायोड में से होता हुआ अपना सर्किट पूरा करता है जबकि करंट प्रवाह इस दिशा के विपरीत दिशा में होता है।

हाफ-वेव रेक्टिफायर किसे कहते है
हाफ वेव रेक्टिफायर सर्किट

हाफवेव रेक्टिफायर  (Half-wave Rectifier)

जैसा की चित्र में दिखाया गया है आउटपुट करंट का मान शून्य से अधिकतम और अधिकतम से शून्य के बीच एक ही दिशा में घटता बढ़ता है। करंट मान इस प्रकार का घटाव बढ़ाव रिपिल(Ripple)कहलाता है। आउटपुट डी०सी० की रिपिल फ्रीक्वेन्सी (Ripple frequency) सप्लाई फ्रीक्वेन्सी के तुल्य (सामान्यतः 50 हर्ट्ज) होती है । एनोड करंट के एम्पलीट्यूड में होने वाले उपरोक्त परिवर्तन पल्सेशन्स (Pulsations) कहलाते है और इस पार्क की डी०सी० पल्सेटिंग डी०सी० (Pulsating D.C.) कहलाती है। पल्सेटिंग डी०सी० को सरल डी०सी० (smooth d.c.) में परिवर्तित करने के लिए फ़िल्टर सर्किट लगाये जाते है।

 

Advertisements

 

इन्हे भी देखे  

हाफ-वेव रेक्टिफायर किसे कहते है
हाफ वेव रेक्टिफायर का  फ़िल्टर सर्किट

ऊपर चित्र में  हाफ वेव रेक्टिफायर का  फ़िल्टर सर्किट दिखाया गया है।  सर्किट में एक इलैक्ट्रो लाइटिक कैपेसिटर तथा रेसिस्टर लगाया गया है जो पल्सेटिंग डी०सी० (Pulsating D.C.) को शुद्ध डी.सी. में बदल देता है जिससे आउटपुट में शुद्ध डी.सी.प्राप्त होती है।  



अवगुणहाफवेव रेक्टिफायर की दक्षता काफी कम होती है और रिपिल तथा सप्लाई फ़्रिक्वेसी का मान एक की होने के कारण पल्सेटिंग डी०सी० को सरल डी०सी० में परिवर्तित करने के लिए कई खण्ड वाला फ़िल्टर सर्किट लगाना पड़ता है।

दोस्तों अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी और उपयोगी लगी है तो आपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। और पोस्ट को   Like और Share जरूर करे । और इलेक्ट्रॉनिक्स की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग www.electronicgyan.com को फॉलो करे.