P-N-P/ N-P-N ट्रांसिस्टर की पहचान करना

Advertisements
P-N-P/ N-P-N ट्रांसिस्टर की पहचान
नमस्कार  _/ \_ आज की पोस्ट में हम आपको बता रहे है  P-N-P/ N-P-N ट्रांसिस्टर की पहचान  करना की ट्रांसिस्टर पर अंकित कोड की पहचान कैसे करे। ट्रांसिस्टर पर अंकित कोड से हमे यह पता लग जाता है की ट्रांसिस्टर किस अर्द्धचालक का बना हुआ है और किस कार्य क्षेत्र में उपयोग किया जा सकता है। आज की पोस्ट आप सब के लिए बहुत ही उपयोगी है।

 

Advertisements

 

जर्मेनियम / सिलिकॉन तथा P-N-P/ N-P-N ट्रांसिस्टर की पहचान करना।

ट्रांसिस्टर दो प्रकार के होते है– P-N-P टाइप तथा N-P-N टाइप। P-N-P ट्रांसिस्टर में दो P-टाइप समी कन्डक्टर मैटीरियल के बीच एक N-टाइप मैटीरियल होता है। जबकि N-P-N ट्रांसिस्टर में दो N टाइप मैटीरियल के बीच में एक P टाइप मैटीरियल को जोड़ा जाता है ये दोनों प्रकार के ट्रांसिस्टर जर्मेनियम तथा सिलिकॉन सेमी कंडक्टर मैटीरियल के बने होते है।प्रत्येक ट्रांसिस्टर के ऊपर नम्बर्स लिखे होते है। जिसमे प्रथम नम्बर यह बताता है कि ट्रांसिस्टर जर्मेनियम है अथवा सिलिकॉन तथा दूसरा नम्बर ट्रांसिस्टर की ऑपरेटिंग फ्रीक़्वेंसी रेंज अथवा उसके कार्य क्षेत्र को प्रदर्शित करता है। P-N-P तथा N-P-N ट्रांसिस्टर के संकेत चित्र में दिखाए गये है ।संकेत के आधार पर P-N-P ट्रांसिस्टर में एमीटर P पदार्थ का बना होता है तथा इसमे तीर का निशान बेस की ओर होता है। N-P-N ट्रांसिस्टर में एमीटर N पदार्थ का बना होता है तथा इसमे तीर का निशान बेस से बाहर की ओर होता है। विभिन्न प्रकार के ट्रांसिस्टर्स पर लिखे नम्बर्स के अभिप्राय इस प्रकार है।
P-N-P/ N-P-N ट्रांसिस्टर की पहचान
P-N-P/ N-P-N ट्रांसिस्टर की पहचान

 

 

1-प्रथम अक्षर ट्रांसिस्टर किस सेमीकन्डक्टर मैटीरियल का बना है यह प्रदर्शित करता है। जैसे

A-A  यह प्रदर्षित करता है कि यह जर्मेनियम पदार्थ का बना हुआ है।
B-B  यह प्रदर्षित करता है कि यह सिलिकॉन ट्रांसिस्टर है।
C-C  यह बताता है कि सेमीकन्डक्टर के रूप में गैलियम आर्सेनाइट सिलिकॉन के स्थान पर प्रयोग किया गया है।
D-D  यह प्रदर्शित करता है कि सेमीकन्डक्टर क्र रूप में इंडियम एंटीमोनाइड प्रयोग किया गया है तथा इसमे एक से अधिक जंक्शन है।
                 R-R  यह प्रदर्शित करता है कि इसमें प्रयुक्त सेमीकन्डक्टर फोटोकंडक्टिव पदार्थ है।
 2-ट्रांसिस्टर पर अंकित कोड का दूसरा अक्षर ट्रांसिस्टर अथवा डायोड की ऑपरेटिंग फ्रीक़्वेंसी रेंज को प्रदर्शित करता है जिससे ट्रांसिस्टर के कार्य क्षेत्र का पता चलता है । जैसे
A-हाई स्पीड डायोड या डिटेक्टर सिजदे के लिए प्रयुक्त किया जाता है।
B-B अक्षर का प्रयोग वैरियेबल कैपेसिटेन्स डायोड के लिए किया जाता है।
C-C अक्षर का प्रयोग आडियो फ्रीक़्वेंसी रेंज के सिगनल के एम्पलीफिकेशन में प्रयुक्त ट्रांसिस्टर्स के लिए किया जाता है।
D-ऑडियो फ्रीक़्वेंसी एम्पलीफायर में पवार ट्रांसिस्टर्स के लिए प्रयोग किया जाता है।
E-टनल डायोड के लिए प्रयोग किया जाता है
F-रेडियो फ्रीक़्वेंसी एम्पलीफायर रेज के ट्रांसिस्टर्स के लिए प्रयोग किया जाता है।
Advertisements

इस प्रकार के विभिन्न प्रकार के ट्रांसिस्टर को उनके कोड नम्बर से पहचान कर उनके कार्य क्षेत्र तथा उनके प्रयुक्त सेमी कन्डक्टर मैटीरियल के बारे में पता लगाया जा सकता है।
 3-दो अक्षरों के बाद अंकित दो या तीन अंको की सख्या ट्रांसिस्टर की विशेषताओं के अंतर को प्रदर्शित करती है। जैसे– AC 126 तथा AC 128 दोनों जर्मेनियम ट्रांसिस्टर है परन्तु दोनों ट्रांसिस्टर्स की कलेक्टर, एमीटर करेंट तथा गेन में अंतर है। विभिन्न इलैक्ट्रोनिक कम्पनियो द्वारा बनाये जाने वाले कुछ ट्रांसिस्टर तथा उनके कार्य क्षेत्र निम्न प्रकार है।
P-N-P/ N-P-N ट्रांसिस्टर की पहचान

   क्रमसं०
ट्रांसिस्टर का कोड नम्बर
प्रकार तथा कार्य क्षेत्र
1
      AC 126, AD 27, AC 128, AC 187, AC 188,
      जर्मेनियम ट्रांसिस्टर्स है, इनका प्रयोग ऑडियो फ्रीक्वेन्सी पवार एम्पलीफायर तथा आउटपुट सैक्शन में किया जाता है।
2
      BC 147,BC 148,BC 157, BC 158,
      सिलिकॉन ट्रांसिस्टर्स है इनका प्रयोग ऑडियो फ्रीक़्वेंसी वोल्टेज एम्पलीफायर सैक्शन में किया जाता है
3
      BF194, BF 195,
      आर० एफ० एम्पलीफायर सैक्शन में प्रयोग किये जाते है सिलिकॉन ट्रांसिस्टर्स है।
4
      AF 114, AF 115, AF 116, AF 117
      जर्मेनियम ट्रांसिस्टर आर०एफ० एम्पलीफायर में प्रयुक्त होते है।
5
      CIL 454, CIL 453
      सिलिकॉन आर०एफ० एम्पलीफायर में प्रयुक्त।
6
      CIL 452
     ऑडियो एम्पलीफायर सैक्शन में प्रयुक्त सिलिकॉन ट्रांसिस्टर
      CIL 451
      सिलिकॉन ऑडियो आउटपुट पावर एम्पलीफायर सैक्शन में
8
      BEL – 368 BEL – 369
      ऑडियो पवार एम्पलीफायर सैक्शन में।

 

दोस्तों अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी और उपयोगी लगी है तो आपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। और पोस्ट को Like और Share जरूर करे । और इलेक्ट्रॉनिक्स की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग www.electronicgyan.com को फॉलो करे.