चुम्बकीय रिले किसे कहते है

Advertisements

परिचय –  विधुत चुम्बकीय युक्ति जिससे एक साथ कई सर्किट्स को आवश्यकता के अनुसार ऑन या ऑफ किया जा सकता है चुम्बकीय रिले या केवल रिले कहलाती है । यह प्रायः 3 वोल्ट से 24 वोल्ट तक डी० सी० पर कार्य करती है । परंतु आवश्यकता के अनुसार इससे अधिक वोल्टेज पर कार्य करने वाली रिले भी बनाई जाती है कम वोल्टेज पर कार्य करने वाली रिले मिनिएचर रिले (miniature relay) भी कहलाती है ।

Advertisements

 

चुम्बकीय रिले किसे कहते है

चुम्बकीय रिले किसे कहते है
चुम्बकीय रिले सर्किट

 

संरचना – इसमे मुख्यत एक विधुत चुम्बक रीड (reed) , NO तथा NC संयोजक (NO Normally Open , NC Normally Closed) होते है,

इन्हे भी देखे  🙄 

कार्य– विधुत चुम्बक को डी०सी० सिगनल देने पर वह उत्तेजित हो जाती है और रीड को आकर्षित कर लेती है । रीड के साथ जुड़े NO संयोजक वांच्छित सर्किट को जोड़ देता है और NC संयोजक वांच्छित सर्किट को open कर देता है ।

Advertisements



 

विशेषताए

  • इसके द्वारा कन्ट्रोल सर्किट को निम्न वोल्ट पर चलाया जा सकता है जिसमे वैधुतिक शक्ति व्यय काम होता है एव ऑपरेटर को विधुत झटका लगने की सम्भावना भी नही रहती ।
  • यह केवल पूर्व निर्धारित वोल्टेज तथा करंट मान पर ही कार्य कर सकती है उससे कम पर नही ।
  • ट्रांजिस्टर सर्किट युक्त रिले से रिमोट कन्ट्रोल व्यवस्था स्थापित की जा सकती है
  • NO तथा NC संयोजक सिल्वर या प्लैटिंग धातु के बनाये जाते है औऱ ये अच्छा विधुत सम्बन्ध स्थापित करते है ।

उपयोग – रिले का उपयोग रिसीवर ट्रांजिस्टर, रेफ्रिजरेटर, वोल्टेज स्टेबिलाइजर, टेलीफोन, कंट्रोल सर्किट्स एव रिमोट कन्ट्रोल सर्किट्स में किया जाता है

 

दोस्तों अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी और उपयोगी लगी है तो आपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। और पोस्ट को Like और Share जरूर करे । और इलेक्ट्रॉनिक्स की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग www.electronicgyan.com को फॉलो करे.