चुम्बकीय-शक्ति पालक

Advertisements
छड चुम्बक का चुम्बकीय क्षेत्र
चुम्बकीय-शक्ति पालक – सामान्यत: स्थायी चुम्बक छड घोड़े की नाल तथा बेलनाकार आक्रति में बनाये जाते है | जब चुम्बक उपयोग न किए जा रहे हो अथवा उनका भंडारण करना हो तो दो चुम्बक के विपरीत धुर्वो को एक नर्म लोहे के टुकड़े से मिलाकर रखा जाता है लोहे का यह टुकड़ा चुम्बकीय-शक्ति पालक कहलाता है,

चुम्बकीय-शक्ति पालक ( Magnetic Keepers )

चुम्बकीय-शक्ति पालक ( Magnetic Keepers )
छड चुम्बक का चुम्बकीय क्षेत्र

पालक एक चुम्बक अथवा दो चुम्बक के साथ मिलकर एक बन्द चुम्कीय परिपथ तैयार करता है | यह परिपथ चुम्बकीय शक्ति को बनाए रखने में सहायक होता है | इसके अतिरिक्त पालक चुम्बक/चुम्बको में किसी अन्य बाह्य स्त्रोत द्वारा विपरीत धुर्वता पैदा कर उनकी चुम्बकीय शक्ति में ह्रस को भी रोकता है |

 

दोस्तों अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी और उपयोगी लगी है तो आपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। और पोस्ट को Like और Share जरूर करे । और इलेक्ट्रॉनिक्स की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग www.electronicgyan.com को फॉलो करे.